Coming Up Tue 5:00 PM  AEST
Coming Up Live in 
Live
Hindi radio
SBS हिन्दी

ऑस्ट्रेलिया की वयस्क जेल प्रणाली

Behind bars Source: Getty Images/Andrew Merry

आपराधिक अपराध करने वाले वयस्कों को ऑस्ट्रेलिया की 115 सुधार सुविधाओं में से एक में रखा जाता है। जेल न केवल हिरासत में रहने वालों के लिए बल्कि पीछे छूट गए परिवारों के लिए भी एक सुधार सुविधा का सबसे कठोर रूप है।

प्रमुख बिंदु

  • राज्य और क्षेत्र अलग आपराधिक न्याय प्रणाली का प्रशासन करते हैं
  • आप सुधार सेवाओं के माध्यम से जेल में परिवार के किसी सदस्य का पता लगा सकते हैं
  • सभी कैदियों में से लगभग आधे दो साल के भीतर फिर से अपराध करेंगे
  • हिरासत में किसी प्रियजन के साथ लोगों के सपोर्ट के लिए संसाधन उपलब्ध हैं

राज्य और क्षेत्र अपने स्वयं के आपराधिक न्याय और जेल प्रणालियों को नियंत्रित करते हैं, और लगभग 80 प्रतिशत ऑस्ट्रेलियाई जेल सरकार द्वारा संचालित हैं।

ऑस्ट्रेलियन ब्यूरो ऑफ़ स्टैटिस्टिक्स (ABS) जेल की आबादी पर डेटा एकत्र करता है।

एबीएस नेशनल सेंटर ऑफ क्राइम एंड जस्टिस स्टैटिस्टिक्स के निदेशक विलियम मिल्ने कहते हैं, "जून 2021 में हमारे पास वयस्क सुधार प्रणाली में 43,000 कैदी थे, और उनमें से सिर्फ 15,000 से अधिक रिमांड पर थे।"

आदिवासी और टोरेस स्ट्रेट आइलैंडर लोगों के लिए असमान रूप से उच्च दरों को स्वीकार करना महत्वपूर्ण है। ऐतिहासिक आघात और पीढ़ीगत नुकसान जैसे जटिल कारकों के कारण शेष ऑस्ट्रेलियाई आबादी की तुलना में यह दर दस गुना अधिक है।

इन मुद्दों की जांच एस बी एस (SBS) की डॉक्यूमेंट्री  Incarceration Nation में की गई है।

जेल प्रणाली में प्रवेश

जब किसी व्यक्ति को हिरासत में लिया जाता है तो उनका आंकलन किया जाता है। एनएसडब्ल्यू में मेट्रो वेस्ट की कस्टोडियल डायरेक्टर एम्मा स्मिथ का कहना है कि आतंकवादियों जैसे सबसे गंभीर अपराधियों को उच्चतम सुरक्षा वर्गीकरण प्राप्त होता है।

"हमारे पास अधिकतम, मध्यम और न्यूनतम सुरक्षा केंद्र हैं," सुश्री स्मिथ बताती हैं।

"जब किसी को हिरासत में लिया जाता है, तो हम एक स्क्रीनिंग और कैदी का वर्गीकरण करते हैं। वे किस लिए हिरासत में हैं, क्या वे दोषी पाए गए हैं या क्या वे रिमांड पर हैं, यही निर्धारित करता है कि उन्हें कहां रखा गया है, और किसके तहत वर्गीकरण किया गया है।"

एक रिमांड कैदी वह होता है जिसे गिरफ्तार किए जाने और अपराध के आरोप के बाद हिरासत में रखा जाता है, और वह अभी भी मुकदमे या सजा का इंतजार कर रहा है।

जेल की आबादी में पुरुषों की संख्या नब्बे प्रतिशत है, हालांकि पिछले एक दशक में महिलाओं की संख्या पुरुषों की तुलना में अधिक दर से बढ़ी है।

महिलाओं और पुरुषों को उनकी अलग-अलग जरूरतों को पूरा करने के लिए अलग-अलग सुविधाओं में रखा जाता है। 

A prisoner in green uniform handcuffed
A prisoner in green uniform handcuffed
AAP Image/David Gray

एबीएस ABS की रिपोर्ट है कि सजा सुनाए गए कैदियों का हिरासत में बिताया गया औसत समय साढ़े तीन साल है।

सलाखों के पीछे, कैदियों को अपने अपमानजनक व्यवहार को संबोधित करने के लिए स्वास्थ्य क्लीनिक और कार्यक्रमों में भाग लेने की आवश्यकता होती है।

कैदियों से सुविधा रखरखाव, या केंद्र के भीतर उद्योगों जैसे इंजीनियरिंग, प्रिंटिंग, या जेल की दुकानों (इसे 'बाई-अप' के रूप में जाना जाता है) में भी काम करने की उम्मीद की जाती है।

पैरोल पर

सुश्री स्मिथ कहती हैं कि कुछ कैदियों को पूर्ण-अवधि की सजा होती है, जिसका अर्थ है कि वे जेल में अपनी पूरी सजा काट रहे हैं। हालांकि, कैदियों के एक बड़े अनुपात को कड़ी निगरानी में समुदाय में पैरोल पर रिहा किया जा सकता है। सुश्री स्मिथ कहती हैं।

           कैदियों के लिए सपोर्ट पाने और समुदाय के लिए यह जानने का यह वास्तव में एक अच्छा अवसर है कि उनकी निगरानी की जा रही है। यह उन्हें पुन: एकीकरण का अवसर देता है।

Photo

Parramatta Correctional Centre, former medium security prison
Parramatta Correctional Centre, former medium security prison

किसी प्रियजन का पता लगाना

परिवार के किसी सदस्य को कहां रखा जा रहा है, यह जानने के लिए संबंधित राज्य के सुधार सेवा विभाग से संपर्क कर सकते हैं। जेल में किसी से मिलने के लिए पूर्व-अनुमोदन लेना होता है। 

प्रत्येक जेल में एक फोन बुकिंग सेवा है जो आपको आने के घंटों, किसी भी प्रतिबंध और यहां तक ​​कि पोशाक आवश्यकताओं के बारे में सूचित करेगी। 

कैदियों के परिवारों के लिए सहायता

स्वयंसेवी नादिया ने जेल में बंद प्रियजनों के परिवारों के लिए ऑनलाइन संसाधन के रूप में बार्स बिटवीन Bars Between  की स्थापना की।

नादिया का कहना है कि यह नेटवर्क स्वयंसेवकों द्वारा चलाए जाते हैं जो शर्म, कलंक और अलगाव की उस भावना को समझते हैं जो उस स्थिति में लोग महसूस कर सकते हैं।

परिवार ही अक्सर जेल में किसी का भावनात्मक और आर्थिक बोझ उठाने के लिए रह जाते हैं।  

            किसी ने एक बार कहा था, 'व्यक्ति अपराध करता है, और परिवार उसकी सज़ा काटता है।  वास्तव में ऐसा ही होता है।’

रिहाई के बाद फिर से अपराध

पुनरावृत्ति के कारण जटिल हैं। नशीली दवाओं का उपयोग, बेरोजगारी, निम्न शिक्षा स्तर और खराब मानसिक स्वास्थ्य सभी जोखिम कारक हैं। कैदियों के  रिलीज के बाद उन्हें मिल रही समर्थन सेवाओं में भी कमी है।

ऑस्ट्रेलियाई उत्पादकता आयोग से  खतरनाक दरों की रिपोर्ट है।

एबीएस से 'विलियम मिल्ने बताते हैं, "लगभग 46 प्रतिशत कैदी दो साल के भीतर फिर से अपराध करेंगे," 

श्री मिल्ने ने कहा, ”उन लोगों में से जो वर्तमान में जेल में हैं, हम देख सकते हैं कि लगभग 60 प्रतिशत को पहले कारावास की सजा हुई है, लेकिन ज़रूरी नहीं कि यह दो साल के भीतर है।"

सुश्री नादिया का मानना ​​है कि रिलीज के बाद परिवार का सपोर्ट जरूरी है। उन्होंने कहा, ”अनुसंधान से पता चलता है कि एक व्यक्ति, एक बार रिहा होने के बाद, समाज में फिर से जुड़ने में सक्षम होगा और वह वापस जेल लौटने वालों में नहीं होगा यदि उनके लिये बाहर एक अच्छा पारिवारिक सपोर्ट है।” 

एसबीएस की नयी डाकूमेंटरी श्रँख्ला 'लाइफ ऑन द आउटसाइड' Life on the Outside  का उद्देश्य आपराधिक व्यवहार में होने वाली पुनरावृत्ति से निपटना है।

 

 


ऊपर तस्वीर में दिए ऑडियो आइकन पर क्लिक कर के हिन्दी में पॉडकास्ट सुनें।

हर दिन शाम 5 बजे एसबीएस हिंदी का कार्यक्रम सुनें और हमें  Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

Coming up next

# TITLE RELEASED TIME MORE
ऑस्ट्रेलिया की वयस्क जेल प्रणाली 15/04/2022 07:12 ...
इस साल ऑस्ट्रेलिया में 1 जुलाई से टैक्स में क्या बदलाव होने वालें हैं? 01/07/2022 07:31 ...
तुमको न भूल पाएंगे:राजेंद्र कृष्ण 01/07/2022 07:18 ...
एसबीएस बॉलीवुड टाइम: 30 जून 2022 30/06/2022 09:16 ...
लखनऊ का चिड़ियाघर बना भारत का सबसे पहला ब्लाइंड फ्रेंडली ज़ू 29/06/2022 08:14 ...
तुमको न भूल पाएंगे: श्यामा 24/06/2022 06:52 ...
एसबीएस बॉलीवुड टाइम: 23 जून 2022 23/06/2022 08:49 ...
मिलिए रामदास से जो गुजरात में बीमार जूतों का अस्पताल चला रहें है 21/06/2022 05:24 ...
तुमको न भूल पाएंगे: नसीम बानो 20/06/2022 07:00 ...
एसबीएस बॉलीवुड टाइम: 17 जून 2022 17/06/2022 09:00 ...
View More