Coming Up Wed 5:00 PM  AEST
Coming Up Live in 
Live
Hindi radio
SBS हिंदी

वैलेंटाइन्स डे विशेष: अवंतिका और आमिर ने साबित किया कि प्रेम में जाति या धर्म की कोई जग़ह नहीं

Source: Supplied

आज 18 साल बाद जब मैं मुड़कर देखती हूँ तो मुझे आमिर वहीँ ऑफिस के बाहर हाथ में गुलाब लिए दीखता है।और फिर मैं जब सामने देखती हूँ तो बच्चों के साथ वो इंतज़ार करता नज़र आता है।

मेलबोर्न के दक्षिण पूर्वी इलाके में रहने वाले आमिर ख्वाजा और अवंतिका भारद्धाज अपने तीन बच्चों  रहते हैं। 

ऑस्ट्रेलिया के मल्टीकल्चरल समाज में भारतीय ऑस्ट्रेलियाई पन्ने पर उनका अपना महत्व है। 

फिल्म “टू स्टेट्स” की तरह ही वो अलग प्रांत और भाषा की पृष्ठभूमि से आते हैं लेकिन फिर भी उनको कुछ एक करता है। 

इसकी शुरुवात कैसे हुई इस सवाल पर अवंतिका करीब 18 साल पीछे चली जाती हैं।

वैलेंटाइन्स डे विशेष: अवंतिका और आमिर ने साबित किया कि प्रेम में जाति या धर्म की कोई जग़ह नहीं
Supplied
 

वे भारत के पटियाला शहर से राजधानी दिल्ली के समीप नोएडा में सॉफ्टवेयर कम्पनी में काम करने पहुंची तो उनकी मुलाक़ात वहां काम कर रहे आमिर ख़्वाजा से हुई। 

अवंतिका कहती हैं कि “मैं जितनी चुप रहकर दूसरों की बात सुनती हूँ आमिर उतना ही बातूनी है शायद उसकी ये खूबी ही मुझे अच्छी लगी और हम दोस्त बन गए।”

कहते हैं कि दोस्ती में धर्म, जाति, प्रान्त और भाषा का भेदभाव नहीं होता। 

“अपना पहला वैलेंटाइन्स डे हमने दूसरे सब दोस्तों के साथ मिलकर ही मनाया। तब तक शायद ऐसा कुछ था भी नहीं, लेकिन उस दिन मुझे लगा कि वो सिर्फ एक दोस्त नहीं उससे कुछ ज्यादा है।”

वैलेंटाइन्स डे विशेष: अवंतिका और आमिर ने साबित किया कि प्रेम में जाति या धर्म की कोई जग़ह नहीं
Supplied
 

आमिर ख़्वाजा उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ज़िले से सम्बन्ध रखते हैं। उन्होंने जामिआ मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से सिविल इंजीनियर की डिग्री हासिल की। 

वे बताते हैं कि किसी को पसंद करना हम सभी के साथ होता है, लेकिन दूसरे भी आप को पसंद करें ये एक सुखद अनुभव है। 

“हमारी कहानी में इमोशन हैं, ड्रामा है, जुदाई भी है लेकिन भरोसा और समर्पण सबसे ज़्यादा है। मुझे लगता है कि इसी वजह से आज हम साथ हैं।”

साल 2003 में अवंतिका इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी में मास्टर डिग्री करने मेलबोर्न आ गयी तो आमिर ने अपने काम का विस्तार ऑस्ट्रेलिया तक बढ़ा लिया। 

वैलेंटाइन्स डे विशेष: अवंतिका और आमिर ने साबित किया कि प्रेम में जाति या धर्म की कोई जग़ह नहीं

वे बताती हैं, “हम दोनों ने अपने लिए कुछ पर्सनल गोल निर्धारित किये थे और उनको हासिल करके ही अगला कदम उठाया।”

अवंतिका हसतें हुए कहतीं है कि अलग धर्म होने की वजह से जो परेशानियां आती हैं उनका सामना हमे भी करना पड़ा, मगर क्या इससे कोई फर्क पड़ता है। 

आज वैलेंटाइन्स डे है, वैसे इस दिन के हमारे लिए ज़्यादा मायने नहीं हैं क्यों कि अगर आप अपने रिश्तें में खुश हो तो सभी दिन वैलेंटाइन्स डे हैं। 

सभी पति पत्नी एक दूसरे से नाराज़ होते हैं हम भी होते हैं। रूठने-मनाने और फिर हँस देने का नाम ही ज़िंदगी है।

वैलेंटाइन्स डे विशेष: अवंतिका और आमिर ने साबित किया कि प्रेम में जाति या धर्म की कोई जग़ह नहीं
Supplied
 

आमिर बताते हैं कि, “मेरी ग़लतियाँ बता कर मुझे बेहतर इंसान बनाने का सारा श्रेय मैं अवंतिका को देता हूँ मगर हर बार अपनी गलती सुनना अच्छा नहीं लगता है।”

मेरे लिए वैलेंटाइन्स डे के मायने अपने परिवार के साथ समय बिताना है। 

अगले जन्म में भी एक दूसरे के साथ रहने के सवाल पर दोनों ख़ूब हसतें हैं और फिर एक साथ कहते हैं “बिलकुल।”


 

Coming up next

# TITLE RELEASED TIME MORE
वैलेंटाइन्स डे विशेष: अवंतिका और आमिर ने साबित किया कि प्रेम में जाति या धर्म की कोई जग़ह नहीं 14/02/2020 09:58 ...
कोविड 19 के साथ-साथ फ्लू से बचाव की भी तैयारी करें 07/04/2020 10:50 ...
कोविड-19: अगर आप नर्स हैं और समुदाय की मदद करना चाहते हैं 03/04/2020 04:46 ...
क्या बच्चों को कोविड-19 संक्रमण से कम खतरा है? 03/04/2020 08:31 ...
कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में अभी लग सकते हैं 18 महीने 02/04/2020 04:30 ...
मैं बीमार हूं, वापस परिवार के पास जाना चाहता हूं, लेकिन.. 01/04/2020 07:29 ...
कोविड-19: छात्रों, बुज़ुर्गों और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए बढ़े मदद के हाथ 01/04/2020 06:37 ...
सरकार ने की १३० बिलियन डॉलर के “जॉब कीपर अलाउंस” की घोषणा 31/03/2020 04:49 ...
अनुराग अनंत की कहानीः नाव की देह में कील 29/03/2020 12:00 ...
डॉक्टर, नर्सों और उनके परिवारों की मदद में जुटा टोवोम्बा का भारतीय ऑस्ट्रेलियाई परिवार 26/03/2020 08:43 ...
View More